AIMA

E-Commerce sector new opportunity for India PLI scheme will increase employment: Das

Thursday 23rd September, 2021

Article Details
  • View Image
  • View PDF

-कॉमर्स क्षेत्र भारत के लिए नया अवसर पीएलआई योजना से बढ़ेगा रोजगार : दास रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा, इंटरनेट और स्मार्टफोन की बढ़ती पहुंच से ई-कॉमर्स को गति मिली नई दिल्‍ली महामारी के बाद ई-कॉमर्स क्षेत्र ने भारत के लिए नए अवसर पैदा किए हैं रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि देश में इंटरनेट और स्मार्टफोन के विस्तार से ईकॉमर्स क्षेत्र को मजबूती मिली और रोजगार की संभावनाएं पैदा हुईं एआईएमए राष्ट्रीय प्रबंधन सम्मेलन में दास ने कहा, कोविड-19 के दौरान कंपनियों ने वर्क फ़रॉम होम जैसी व्यवस्था से यह दिखा दिया कि बिना ज्यादा खर्च के भी उत्पादकता बढ़ाई जा सकती है देश में इंटरनेट और स्मार्टफोन की बढ़ती पहुंच से ई-कॉमर्स व डिजिटल बाजार को तेज रफ्तार मिली है आगे भी इस क्षेत्र में बड़े स्तर पर रोजगार और उत्पादन बढ़ाने की क्षमता है उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था और विकास दर को गति देने के लिए विनिर्माण क्षेत्र को बढ़ाना सबसे ज्यादा जरूरी हैं मौजूदा सरकार ने इस दिशा में महामारी का गरीबों का ज्यादा असर गवर्नर ने कहा कि दी साल से पूरी दुनिया पर छाई कोरोना महामारी की सबसे ज्यादा मार गरीबों पर पड़ी है भारत जैसी उभरती और विकासशील अर्थव्यवस्था वाले देश इससे बहुत प्रभावित हुए, लेकिन अब दुनिया इस दबाव से बाहर आ रही है हमें सतत विकास हासिल करने के लिए ढांचायत निवेश और श्रम बाजार में बड़े सुधार की जरूरत है इससे रोजगार और आमदनी बढ़ाने में भी मदद मिलेगीं प्रोत्सहन इसका लाभ उठाना चाहिए और अपनी क्षमता बढ़ाने पर जोर देना चाहिए आत्मनिर्भर भारत अभियान. निर्भरता घटा सकें एजेंसी उत्पादन... आधारित (पीएलआई) योजना के जस्यि बड़ा कदम उठाया है विनिर्माताओं को स्वास्थ्य और शिक्षा पर बढ़ाना होगा निवेश दास के अनुसार, महामारी के बाद स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में निवेश बढ़ाना होगा साध ही रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए डिजिटल और फिजिकल ढांचा तैयार करने पर भी जोर देना होगा अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने के लिए निजी खपत सबसे जरूरी घटक है वित्तीय तंत्र में ढांचागत सुधारों और निवेश के जरिये नए अवसर पैदा करने और वैश्विक प्रतिस्पर्धा बमाने के लिए भी सरकारों को प्रयास करना होगा की मूल उद्देश्य ही विनिर्माण को बढ़ाना देना है, ताकि हम आयात पर